आता है सुब्ह उठ कर तेरी बराबरी को / ख़ान-ए-आरज़ू सिराजुद्दीन अली

आता है सुब्ह उठ कर तेरी बराबरी को
क्या दिन लगे हैं देखो ख़ुर्शीद-ए-ख़ावरी को

दिल मारने का नुस्ख़ा पहुँचा है आशिक़ों तक
क्या कोई जानता है इस कीमिया-गरी को

उस तुंद-ख़ू सनम से मिलने लगा हूँ जब से
हर कोई जानता है मेरी दिलावरी को

अपनी फ़ुसूँ-गरी से अब हम तो हार बैठे
बाद-ए-सबा से ये कहना उस दिलरूबा परी को

अब ख़्वाब में हम उस की सूरत को हैं तरसते
ऐ आरज़ू हुआ क्या बख़्तों की यावरी को

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *