कुछ भी तो अब / नईम

कुछ भी तो अब
तन्त नहीं है-
ऊपरवाले की लाठी में।

दीमक चाट गयी है शायद-
ये भी ऊपरवाला जाने,
भुस में तिनगी जिसने डाली-
वही जमालो खाला जाने।

हम तो खड़े हुए हैं
घर के
पानीपत हल्दीघाटी में।

दो ही दिन में बासी
लगने लगते हैं परिवर्तन
प्रगतिशील होकर आते
घर-घर में अब ऋण।

अपने को
रूँधा कुम्हार सा,
कस ही नहीं रहा माटी में।

श्रृद्धापक्ष ही नहीं, किन्तु अब
उनकी बारहमास छन रही,
पात्र-कुपात्र न देखे भन्ते !
कच्ची, क्वाँरी कोख जन रही।

तेल नहीं रह गया
हमारी
परम्परा औ’ परिपाटी में।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *