ओ मेघा रे, मेघा रे / संतोषानन्द

ओ मेघा रे, मेघा रे

ओ मेघा रे, मेघा रे मत परदेस जा रे
आज तू प्रेम का संदेश बरसा रे |
मेरे गम की तू दवा दे
आज तू प्रेम का संदेश बरसा रे |

चलो और दुनिया बसाएँगे हम-तुम
यह जन्मों का नाता निभाएँगे हम-तुम
ओ मेघा रे, मेघा रे हमको तू दुआ दे
आज तू प्रेम का संदेश बरसा रे

ओ मेघा रे मेघा रे……

फ़िल्म : प्यासा सावन (1981)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *