ऐ इश्क़ तूने अक्सर क़ौमों को खा के छोड़ा / अल्ताफ़ हुसैन हाली

ऐ इश्क़! तूने अक्सर क़ौमों को खा के छोड़ा
जिस घर से सर उठाया उस घर को खा के छोड़ा

[ithoughts_tooltip_glossary-tooltip content=”नेक लोग”]अबरार[/ithoughts_tooltip_glossary-tooltip]  तुझसे तरसाँ [ithoughts_tooltip_glossary-tooltip content=”सभ्य लोग”]अहरार[/ithoughts_tooltip_glossary-tooltip]  तुझसे लरज़ाँ
जो [ithoughts_tooltip_glossary-tooltip content=”समक्ष”]ज़द[/ithoughts_tooltip_glossary-tooltip]  पे तेरी आया इसको गिरा के छोड़ा

[ithoughts_tooltip_glossary-tooltip content=”राजाओं”]रावों[/ithoughts_tooltip_glossary-tooltip]  के राज छीने, शाहों के ताज छीने
[ithoughts_tooltip_glossary-tooltip content=”घमण्डियों”]गर्दनकशों[/ithoughts_tooltip_glossary-tooltip]  को अक्सर नीचा दिखा के छोड़ा

क्या [ithoughts_tooltip_glossary-tooltip content=”पेशेवर संगीतकारों”]मुग़नियों[/ithoughts_tooltip_glossary-tooltip]  की दौलत,क्या ज़ाहिदों का [ithoughts_tooltip_glossary-tooltip content=”सयंम”]तक़वा[/ithoughts_tooltip_glossary-tooltip]
जो [ithoughts_tooltip_glossary-tooltip content=”ख़ज़ाना”]गंज[/ithoughts_tooltip_glossary-tooltip]  तूने ताका उसको लुटा के छोड़ा

जिस रहगुज़र पे बैठा तू [ithoughts_tooltip_glossary-tooltip content=”वोह जिन्न, जो जंगलों में मुसाफ़िरों को भटका देते हैं”]ग़ौले-राह[/ithoughts_tooltip_glossary-tooltip]  बनकर
[ithoughts_tooltip_glossary-tooltip content=”एक वयो-वृद्ध सयंमी फ़क़ीर जिसके सात सौ भक्त थे, इश्क़ की चपेट में आकर एक इसाई लड़की पर आशिक़ हो गए, जिसके परिणामस्वरूप उसे सूअर चराने जैसा काम करन पड़ा”]सनआँ-से[/ithoughts_tooltip_glossary-tooltip]  [ithoughts_tooltip_glossary-tooltip content=”सीधी राह पर चलने वाले, सयंमी”]रास्तरौ[/ithoughts_tooltip_glossary-tooltip]  को रस्ता भुला के छोड़ा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *