आज नदी बिलकुल उदास थी / केदारनाथ अग्रवाल

आज नदी बिलकुल उदास थी।
सोई थी अपने पानी में,
उसके दर्पण पर-
बादल का वस्त्र पडा था।
मैंने उसको नहीं जगाया,
दबे पांव घर वापस आया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *