अपलक / सत्येन्द्र श्रीवास्तव

चाँद ने मुझमें देखा
मैंने चाँद में
देखते ही रहे
हम रुके नहीं
मिले थे नयन और
झुके नहीं
भर आईं
मेरी ही आँखें
बाद में।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *