अकर्ता / भवानीप्रसाद मिश्र

तुम तो
जब कुछ रचोगे
तब बचोगे

मैं नाश की संभावना से रहित
आकाश की तरह
असंदिग्ध बैठा हूँ !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *